स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं ये 16 आसान टिप्स

easy tips to stay healthy in hindi, best ways to stay healthy in hindi

स्वास्थ्य – यह एक ऐसा शब्द है जिससे लोगों के मन में एक ही सवाल उठता है कि हमें स्वस्थ कैसे रहना चाहिए। स्वास्थ्य सबसे बड़ी पूंजी है। यदि हम स्वस्थ हैं तो ही हम अपने लिए उपलब्ध संसाधनों का आनंद ले सकते हैं। जो व्यक्ति बीमार है, उसके स्वास्थ्य का सही मूल्य पूछें, तभी आप उसके सही महत्व को समझ पाएंगे। इसीलिए कहा जाता है – “Health is Wealth”। रोजमर्रा की जिंदगी में हम कई ऐसी छोटी छोटी चीजों को नजरअंदाज कर जाते हैं, जो सेहत को नुकसान पहुंचाती हैं। इस लेख में, हम बीमारियों से बचकर स्वस्थ रहने के ऐसे प्राकृतिक और आसान तरीकों का उल्लेख कर रहे हैं। तो आइए जानते हैं स्वस्थ रहने के ये महत्वपूर्ण तरीके: –

Table of Contents

स्वस्थ रहने के 16 आसान तरीके –

स्वस्थ रहने के लिए खाली पेट गुनगुना पानी पिएं-

ऐसा कहा जाता है कि सभी बीमारियाँ पेट से शुरू होती हैं, अगर पेट साफ रहे तो काफी हद तक हम बीमारियों से दूर रह सकते हैं। सुबह उठकर खाली पेट गर्म पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद है। गर्म पानी हमारे पेट को साफ करता है, detoxify करता है, और हमारी ऊर्जा को जागृत करता है, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली में भी सुधार होता है और हम स्वस्थ रहते हैं।

योग और व्यायाम को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं –

Easy tips to stay healthy in hindi, best ways to stay healthy in hindi

नियमित योग अभ्यास से न केवल इम्युनिटी बढ़ती है बल्कि शरीर और मन भी स्वस्थ रहता है। इसके लिए रोजाना सुबह के समय नियमित व्यायाम, योग और ध्यान करें। सुबह जल्दी उठें और टहलें। दिनचर्या सही रखें। योग और व्यायाम का अभ्यास लगातार जारी रखने के लिए, हम इससे संबंधित किसी भी संगठन में शामिल हो सकते हैं या हमें दोस्तों और रिश्तेदारों के एक समूह को तैयार करना चाहिए और साथ में योग और व्यायाम का अभ्यास करना चाहिए। क्योंकि एक समूह मे अभ्यास करने से हमें प्रोत्साहन मिलता है और हम एक दूसरे को देखकर प्रोत्साहित होकर इसे लगातार कर पते हैं। यह योग को जारी रखने और दैनिक व्यायाम करने का सबसे अच्छा तरीका है।

स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी नाश्ता लें-

स्वस्थ रहने के लिए सुबह का नाश्ता हेल्दी लेना चाहिए। यह हमारी कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करता है और हमें पूरे दिन के काम के लिए ऊर्जा प्रदान करता है। इसके अलावा अपने नाश्ते में विटामिन, खनिज, पोटेशियम, फाइबर और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों जरूर शामिल करें।

अगर, कोई अपने दिन की शुरुआत घर में बने नाश्ते से करता है। तो, यह उन्हें अच्छे पोषक तत्व देता है। फाइबर, विटामिन सी और प्रोटीन जैसे पोषण दिन को अच्छी तरह से शुरू करने में मदद करते हैं और शरीर को ताकत देते हैं।

नाश्ता करने का एक अच्छा लाभ एसिडिटी और गैस को रोकने में मदद करना है। जैसे, रात के खाने के बाद लगभग 8-10 घंटे का अंतर होता है। अगर हम सुबह का नाश्ता नहीं करते हैं, तो यह अंतर बढ़ जाता है। इतने लंबे समय तक भूखे रहना और अपने पेट को खाली करने से एसिडिटी होती है। नतीजतन, सिरदर्द और कमजोरी भी महसूस होती है। जबकि, सुबह के नाश्ते में हेल्दी नाश्ते लेने से इन समस्याओं से आसानी से बचा जा सकता है।

पोषक तत्वों की मदद से चाय, कॉफी, सिगरेट और चॉकलेट जैसी चीजों का सेवन करने की इच्छा कम होती है। यह इन सबके लत से बचने में भी मदद करता है।

स्वस्थ रहने के लिए शरीर को डिटॉक्स करें –

संचित, दूषित, और शरीर में जमा मल के मल रोगजनक होते हैं। उन्हें शरीर से बाहर निकालने के लिए, फलों और सब्जियों का जूस  लिया जा सकता है। ताजे मौसमी फलों को शामिल जरूर करना चाहिए। अंकुरित अनाज लें या सुबह में भीगे हुए कच्चे मेवे (बादाम, किशमिश, अंजीर, आदि) खाएं।

स्वच्छता का पालन करें –

स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छता बहुत जरूरी है क्योंकि ज्यादातर बीमारियां गंदगी से होती हैं। अपने घरों के साथ आसपास के वातावरण को साफ रखना आवश्यक है क्योंकि अगर आपको अपने घर के बाहर साफ नहीं रखा जाता है, तो आपके घर में स्वच्छ हवा प्रवेश नहीं करेगी। अपने प्राइवेट पार्ट से लेकर खाने-पीने की चीजों तक सभी उपकरणों को भी साफ रखें।

स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार लें –

easy tips to stay healthy in hindi, best ways to stay healthy in hindi

स्वस्थ रहने के लिए एक अच्छे आहार या संतुलित आहार की बहुत आवश्यकता होती है क्योंकि आप जानते हैं कि अधिकांश बीमारी गलत आहार के कारण होती है, इसलिए संतुलित आहार को अपनाना चाहिए। भोजन आपकी जीभ के स्वाद के लिए बनाया गया है और आपको अधिक से अधिक खाना चाहिए, आपको इस सोच को बदलना होगा। अपने आहार मे सभी प्रकार के आवश्यक पोशाक तत्वों को जरूर शामिल करें।

हल्का डिनर लें –

रात में अधिक भोजन करने से आपको नींद नहीं आती है और ठीक से पच नहीं पाता है। इसलिए रात में बहुत अधिक भोजन न करें। आप दोपहर में हेल्दी भोजन कर सकते हैं या शाम की चाय के साथ कुछ स्नैक्स ले सकते हैं। रात के खाने के बाद 1 गिलास दूध पीना न भूलें। आप बादाम, या कुछ और के साथ मिश्रित दूध भी पी सकते हैं। रात के खाने के बाद, सोते समय दो घंटे का समय अंतराल होना चाहिए, ताकि आपका भोजन ठीक से पचने के लिए तैयार हो। भोजन के बाद कम से कम 15-20 मिनट टहलें। यह न केवल आपके भोजन को अच्छी तरह से पचाता है, बल्कि यह आपको स्वस्थ भी रखता है। आजकल लोग खाना बहुत जल्दी-जल्दी खाते हैं जो कि सही नहीं है। जल्दी जल्दी खाने से भोजन हमारे पेट मे चल जाता है और पचने मे कठिनाई होती है। भोजन को अच्छे से चबा चबाकर कहना चाहिए, जिससे हमारे मुंह मे उपस्थित लार हमारे भोजन को पचाने मे सहायक हो।

स्वास्थ्य रहने के लिए अधिक से अधिक पानी पियें –

शरीर को फिट और हाइड्रेटेड रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। अगर आपको खाली पानी पीना पसंद नहीं है, तो आप नींबू पानी जैसे हल्के पेय भी पी सकते हैं। इससे आप दिनभर ऊर्जावान बने रहते हैं और कई बीमारियों से भी बचे रहते हैं। नींबू पानी पेट के लिए अच्छा भी होता है और हमारे शरीर कि इम्यूनिटी भी बढ़ाती है। आपको पूरे दिन में अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से शरीर का चयापचय अच्छा रहता है, जिससे पाचन ठीक से होता है। पानी पीने से शरीर में फैट जमा नहीं होता है। हमारा शरीर 75 प्रतिशत पानी से बना है और पानी ही शरीर के विभिन्न भागों में पोषक तत्वों को ले जाने में मदद करता है।

स्वस्थ रहने के लिए नशा से बचें: –

शराब, सिगरेट, तंबाकू आदि नशीले पदार्थों के सेवन से बचें, क्योंकि ये सभी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करते हैं। सभी प्रकार के व्यसन स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक हानिकारक हैं। मानव शरीर के कई अंगों पर उनका बुरा प्रभाव पड़ता है। इनका शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है। कैंसर, हृदय रोग आदि रोग इन्हीं के कारण होते हैं।

स्वस्थ रहने के लिए, जितना हो सके प्राकृतिक रहें –

हम जितना अधिक प्राकृतिक चीजों का उपयोग करेंगे, उतना ही अधिक हम बीमारियों से लड़ पाएंगे। उदाहरण के लिए, जब तक ज़रूरत न हो, एयर कंडीशनर का उपयोग न करें। बिना फ्रीजिंग कि हुई ताजी सब्जियों का उपयोग करें। ताजे फलों का प्रयोग करें। बिना पॉलिश के अनाज और दालों का उपयोग करें। प्राकृतिक और साफ पानी पिएं। पेड़ पौधे वाले स्थानों पर जाएँ। प्राकृतिक खाद्य पदार्थ खाएं।

मौसम के अनुसार शरीर को संवारें: –

अगर हमें बीमारियों से बचना है, तो बेहतर होगा कि हम मौसम के अनुसार व्यवहार करें। मौसम के अनुकूल कपड़े पहनें। मौसम के अनुसार कपड़े पहनना शरीर के लिए अच्छा माना जाता है। अगर मौसम के अनुसार कपड़े न पहने जाएं तो कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि रेशम, नायलॉन, मखमली कपड़े गर्मी के मौसम में नहीं पहनने चाहिए, क्योंकि ऐसे कपड़े पहनने से संक्रमण हो सकता है। इसके अलावा, त्वचा खराब हो सकती है। इन कपड़ों को संभालना भी मुश्किल होता है। समर सीजन मे हमेशा शर्ट, टी-शर्ट, कुर्ता पहनना अच्छा माना जाता है। गर्मियों के मौसम में, पुरुषों के लिए कार्यालय में सफेद कपड़े पहनना अच्छा माना जाता है। गर्मियों में स्लीवलेस ड्रेस पहनने से हाथों की त्वचा जल जाती है। इसलिए लड़कियों को कॉटन और फुल स्लीव की ड्रेस पहननी चाहिए। गर्मी के मौसम में गहरे रंग के कपड़ों के इस्तेमाल से बचना चाहिए। गर्मी के मौसम में हल्के कपड़े पहनने चाहिए। साथ ही, इस मौसम में कैनवास के जूते या सैंडल पहनना बेहतर होता है।

इसके अलावा, सर्दियों के मौसम में गहरे रंग के कपड़े पहनें। ठंड से बचने का सबसे आसान और प्रभावी तरीका है कि आप ऐसे गर्म कपड़े पहनें जो आपके शरीर पर बाहरी मौसम को प्रभावित न करें।

स्वस्थ रहने के लिए काम और विश्राम के बीच संतुलन बनाएं –

काम तो जिंदगी भर करना है, इसलिए काम के कारण अपनी विश्राम का समय कभी कम न करें। 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें। खराब नींद या अत्यधिक नींद का असर सीधा स्वास्थ्य पर पड़ता है। जब आप काम करने के बाद बहुत थक जाते हैं और आप गहरी नींद में सोते हैं, तो आप खुद को सुबह ताजा पाते हैं। इसीलिए कहा जाता है कि अच्छी नींद लेना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़े – अच्छी नींद के लिए टिप्स

आज के समय में, हमारा कार्यस्थल या कार्यालय हमारा दूसरा घर है। दिन का अधिकांश समय यहीं व्यतीत होता है। इसके बाद भी हमें स्मार्टफोन और अन्य स्मार्ट गैजेट्स पर समय देना होता है। घर पहुंचने के बाद भी हम ऑफिस के मामलों, असाइनमेंट आदि में अपना दिमाग लगाते हैं। ऐसे में काम और घर के बीच का संतुलन बिगड़ जाता है। यह हमारे स्वास्थ्य और सामाजिक संबंधों को प्रभावित करता है।

कोशिश करें कि काम के दौरान निजी चीजों में समय बर्बाद न करें। ऐसा करने से आप ऑफिस के तय समय में काम पूरा नहीं कर पाएंगे और इसका बोझ घर तक पहुंचाएंगे। केवल ऑफिस में ऑफिस के काम पर ध्यान दें, तभी आप घर पर बिना तनाव के निजी जिम्मेदारियों को संभाल पाएंगे।

इलेक्ट्रॉनिक गजट का उपयोग सीमित करें –

अत्यधिक मोबाइल, टीवी आदि से बचें, क्योंकि वे हमारी जीवन ऊर्जा के नुकसान का कारण बनते हैं। कई शोधों से पता चला है कि मोबाइल फोन से निकलने वाला विकिरण स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। मोबाइल फोन के कारण, अब लोग घर पर भी एक-दूसरे से बात करने में समय नहीं दे पा रहे हैं। खाली समय में सभी अपने मोबाईल पर व्यस्त रहते हैं ।

सेल फोन की लत का आसानी से इलाज नहीं किया जा सकता है। अन्य व्यसनों की तरह, सेल फोन की लत के लिए कोई अनुमोदित चिकित्सा उपचार नहीं है। निम्नलिखित कुछ तरीके हैं जिनके माध्यम से एक व्यक्ति सेल फोन की लत को दूर कर सकता है-

मोबाईल या सेल फोन के अत्यधिक उपयोग से बचने के उपाय –

  • सेल फोन की लत को दूर करने के लिए, आपको स्वयं उपचार करना होगा। यदि आप कुछ आदतों को रोकना चाहते हैं, तो आपको सोचना होगा।
  • सेल फोन के अतिरिक्त उपयोग को रोकने के लिए, आपको डिवाइस के उपयोग के लिए एक समय सीमा निर्धारित करनी चाहिए।
  • सेल फोन का उपयोग बंद करने का एकमात्र तरीका है कि इसे बंद कर दिया जाए और जरूरत पड़ने पर ही इसका इस्तेमाल किया जाए। यह शुरू में दर्दनाक हो सकता है लेकिन यह सेल फोन की लत को दूर करने का एक प्रभावी तरीका है।
  • परिवार के सदस्यों और उन लोगों के साथ बातचीत करने की कोशिश करें, ऐसा करना सेल फोन का उपयोग नहीं करने के तनाव को कम करेंगे। किसी से बात करना किसी भी समस्या को हल करने के प्रभावी तरीकों में से एक है।

स्वस्थ रहने के लिए रखें स्वस्थ मस्तिष्क –

मन शरीर के सभी अंगों के संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मस्तिष्क शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। लेकिन कई कारणों जैसे तनाव, अवसाद, बढ़ती उम्र आदि के कारण मस्तिष्क की क्षमता कम हो जाती है। आपकी जीवनशैली और भोजन आपके मन को भी प्रभावित करते हैं। जिनमें से कुछ अच्छे प्रभाव और कुछ हानिकारक हैं। ऐसी स्थिति में मस्तिष्क के स्वास्थ्य का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, ताकि मस्तिष्क की कार्यक्षमता कम न हो।

मस्तिष्क का हृदय से सीधा संबंध है। अगर आप तनाव में रहते हैं, तो आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, जिससे कई बीमारियां जैसे हार्ट अटैक आदि ठीक हो जाती हैं, अपनी लाइफस्टाइल को ठीक करें, जल्दी सोएं और जल्दी उठें। चिंता, क्रोध, शोक, संदेह और दूसरों की अपेक्षा करना बंद करें और सकारात्मक रहने कि कोशिश करें।

यह भी पढ़ें – सकारात्मक कैसे रहें 

स्वस्थ रहने के लिए, खुश रहने के बहाने खोजें –

बस खुद को व्यस्त रखना या पैसे कमाने की मशीन बनना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। आप खुश रहने के लिए अलग-अलग तरीके भी अपना सकते हैं जैसे कि खेलकूद में भाग लेना, फिल्में देखना, अपने पसंदीदा दोस्तों से मिलना, सैर के लिए जाना, मज़ेदार हॉबी, पसंदीदा भोजन करना, पुस्तकें पढ़ना, और बहुत कुछ। अगर आप खुश रहना चाहते हैं, तो पहले तुलना करना बंद करें और अगर आप ऐसा कुछ पाना चाहते हैं तो बस मेहनत करें लेकिन इसे मानसिक रूप से प्रभावित न होने दें। तुलना के अलावा, किसी पर उंगली उठाना बंद करें। यदि आप कोई गलती करते हैं, तो इसे समझें, किसी और को इसके लिए दोष न दें। अपनी गलती होने पर इसे स्वीकार करें, जिससे एक आत्मिक शांति और खुशी मिलेगी।

बीमार होने पर इलाज कराने में देरी न करें-

अक्सर लोग अपनी बीमारियों को छिपाने की कोशिश करते हैं या अपनी बीमारियों के बारे में झूठ बोलते हैं कि मुझे यह बीमारी नहीं है। इसे खुद न चुनें। समय पर चिकित्सा सलाह लेना सुनिश्चित करें, यदि आप एक डॉक्टर से समय रहते सलाह लेते हैं, तो आपका इलाज सही समय पर और कम खर्च मे हो जाता है, वहीं आपके द्वारा बीमारी को छिपाने पर हो सकता है इसका घातक परिणाम हो और मेडिकल खर्चे भी बढ़ जाएंगे।

यह भी पढ़ें – प्राकृतिक तरीके से प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ाएं

निष्कर्ष –

स्वस्थ रहना सबसे बड़ी पूंजी है। समय निकाल जाने के बाद हम अपने स्वास्थ्य को लेकर बहुत पछतावा करते हैं। हम जीवन में छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर स्वस्थ रहकर जीवन का आनंद ले सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि हम इन छोटी-छोटी बातों का सख्ती से पालन करें। हमारा स्वास्थ्य हमारे हाथों में है। अगर हम जागरूक रहते हुए अपने स्वास्थ्य के बारे में जानकर इन छोटी-छोटी बातों का पालन करते हैं, तो हम आसानी से स्वस्थ रह सकते हैं।

Leave a Comment