बारिश के मौसम में स्वास्थ्य सम्बन्धी सावधानियां

Health precautions for rainy season in hindi

 

गर्मियों के अंत के बाद, जब बारिश प्रफुल्लित  होकर पृथ्वी पर गिरती है, तो यह पूरे जीवन को ताज़ा करती है, लेकिन कई बीमारियों को भी आमंत्रित करती है। हर कोई इस सुखद मौसम का आनंद लेना चाहता है, लेकिन साथ ही, इस मौसम में लोग अक्सर बहुत जल्दी बीमार हो जाते हैं।

महीनों की कड़ी धूप के बाद, प्रत्येक व्यक्ति कुछ ठंडक की प्रतीक्षा कर रहा होता है और बारिश का महीना इसके लिए ही बना है। एक ओर जहां बारिश का महीना खुशियां और ठंडक लेकर आता है, वहीं इस मौसम में लोगों का स्वास्थ्य भी बहुत ख़राब होता है.

बरसात के मौसम में मलेरिया, डेंगू, सर्दी-खांसी, जुलाब, उल्टी, टाइफाइड, त्वचा रोग, पीलिया आदि कई बीमारियाँ फैलती हैं। जिस तरह हम बारिश से बचने के लिए छाते का इस्तेमाल करते हैं, उसी तरह हमें बारिश के मौसम में फैलने वाली इन बीमारियों से बचने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। तो, आइए चर्चा करें कि बारिश के मौसम में क्या सावधानियां बरती जाएं।

बारिश के मौसम के लिए स्वास्थ्य संबंधी सावधानियां-

बारिश में भीगने से बचें –

Health precautions for rainy season in hindi

कई लोग इस मानसून के दौरान बारिश का आनंद लेने के लिए हमेशा बारिश में नहाते हैं, जिससे उन्हें गर्मी से राहत तो मिलती है, लेकिन इस बारिश में नहाने का मजा अक्सर एक दुखद एहसास में बदल जाता है। अक्सर तेज धूप के बाद अचानक बारिश हो जाती है, ऐसे में उस बारिश में नहाना नुकसान कर सकता है। बारिश में नहाने का सबसे बड़ा नुकसान वायरल संक्रमण के कारण होने वाला सर्दी जुकाम है।

बारिश की मौसम में, वातावरण में वायरस अधिक सक्रिय होते हैं, इसलिए यदि आप थोड़ा सा लापरवाही करते हैं, तो आप इन वायरस के शिकार हो जाते हैं, जो आपको बीमार कर देता है। इसलिए बारिश में नहाने से बचें और अगर आपको गर्मी से राहत पाने के लिए बारिश में नहाना ही है, तो बारिश में भीगने के बाद अपने बाथरूम में फिर से नहाएं और नहाने के बाद शरीर में सरसों का तेल जरूर लगाएं.

हमेशा उबला हुआ पानी पियें –

आपको मानसून के दौरान अपने पीने के पानी को हमेशा उबालना चाहिए। अगर आपके पास पानी का फिल्टर है तो यह आपके लिए अच्छा है, लेकिन अगर कोई पानी फिल्टर नहीं है, तो पानी को पहले उबाल लें और फिर ठंडा होने पर पीने के लिए इस्तेमाल करें। इस उबले हुए पानी का उपयोग 24 घंटे के भीतर करें, क्योंकि इसके बाद इसका उपयोग करना सेहत की दृष्टि से सही नहीं है.

मानसून के दौरान, गंदा पानी मिलने की संभावना बढ़ जाती है, जिसका उपयोग करने पर हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बारिश के मौसम में ज्यादातर बीमारियाँ गंदे पानी पीने से ही होती हैं। इसलिए साफ और उबला हुआ पानी ही पिएं। इसके अलावा कीटाणुओं से बचने के लिए आप अदरक की चाय या गर्म सूप पी सकते हैं।

बारिश के मौसम में, न केवल दूषित भोजन खाने से, बल्कि पानी से भी टाइफाइड जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। इसलिए हमेशा साफ पानी पिएं। इस मौसम में, पानी उबालने के बाद ही पीने की हर संभव कोशिश करें। यह किसी भी संक्रमण और बीमारी के खतरे को समाप्त करता है। हमेशा एक अच्छी दुकान से बाहर से सील की गई पानी की बोतल  ही खरीदें।

सब्जियों के सेवन पर ध्यान दें-

बारिश के मौसम में एक बात आपको हमेशा ध्यान में रखनी है कि जब भी आप कोई सब्जी बनाएं तो सबसे पहले उसे खरीदते समय उस सब्जी की गुणवत्ता की जांच कर लें। बारिश के मौसम में, ज्यादातर सब्जियां हमेशा गंदगी और कीड़ों के साथ आती हैं। कई बार इन सब्जियों में कीड़ा आ जाता है, जिससे आपको बहुत नुकसान हो सकता है।

अगर सब्जी साफ दिखती है, तो इसे इस्तेमाल करने से पहले अच्छी तरह से धो लें और फिर इसे अच्छी आंच पर पकाएं ताकि अगर कोई कीड़ा उस सब्जी में लग जाए तो वह सब्जी के उबाल में मर जाए।

सही खाएं :

मानसून में, आपको हमेशा अपने भोजन का बहुत ध्यान रखना पड़ता है। आपको खाने-पीने के बारे में बहुत सतर्क रहना चाहिए,  बारिश के मौसम में आपको सजग रहना चाहिए। इस मौसम में आपको फास्ट फूड खाने से बचना चाहिए। चौमिन, बर्गर, पिज्जा, या कुछ और, इन चीजों को खाना स्वादिष्ट तो होगा, लेकिन अध्ययनों के अनुसार इन सभी चीजों का सेवन हितकर नहीं है.

इसीलिए यह जरूरी है कि आप फास्ट फूड की जगह अच्छे फल खाएं और जूस पिएं। मुंह के टेस्ट के बजाय स्वस्थ भोजन को अधिक महत्व दें। बासी कुछ भी न खाएं। बासी भोजन में कीटाणु पैदा हो जाते हैं। हमेशा ताजा खाना खाएं। इस तरह, मानसून में मौसम के साथ खुद को समायोजित करने के लिए सही भोजन करना बहुत महत्वपूर्ण है।

इस मौसम में बैक्टीरिया तेजी से बढ़ते हैं, इसलिए कई बार यह भोजन को दूषित कर देता है। अगर आप ऐसा खाना खाते हैं, तो आप फूड प्वाइजनिंग के अलावा हैजा और डायरिया जैसी बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। इसलिए हमेशा ताजा खाना खाना जरूरी है। इस मौसम में बाहर की चीजें खाने से बचें।

इस मौसम में हेपेटाइटिस बी भी एक आम बीमारी है, जिसे देखा जाता है। यह दूषित भोजन और पानी के कारण होता है। आपको उल्टी, मितली, थकान और हल्का बुखार हो सकता है। इससे बचने के लिए आपको साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए और बाहर की और बासी चीजों को खाने से बचना चाहिए। आप चाहें तो डॉक्टर की सलाह पर हेपेटाइटिस बी का टीका भी लगवा सकते हैं।

मच्छरों से उचित बचाव करें –

Health precautions for rainy season in hindi

इस मौसम में पानी के रुकने से मच्छरों की संख्या बढ़ जाती है। ऐसे में मलेरिया से लेकर डेंगू जैसी कई बीमारियों का खतरा बहुत बढ़ जाता है। हमेशा सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें। डेंगू और मलेरिया जानलेवा बीमारियां हैं, इनसे बचने का एकमात्र सटीक तरीका मच्छरदानी का उपयोग करना है। मानसून के दौरान, गंदे पानी के जमाव के कारण मच्छर और मक्खियाँ सबसे ज्यादा पैदा होती हैं। मक्खियों और मच्छरों के कारण क्रमशः दस्त और मलेरिया का सबसे बड़ा डर होता है ।

अपने हाथों को अच्छे से धोएं –

बारिश के मौसम में नियमित रूप से हाथ धोना बहुत आवश्यक है। हम कई जगहों पर जाते हैं, कई लोगों से मिलते हैं, और कई चीजों को छूते हैं। हो सकता है कि किसी अन्य व्यक्ति को किसी प्रकार का संक्रमण हुआ हो और आपने उनसे हाथ मिलाया हो, या हो सकता है कि आप एक बेंच पर बैठे हों, जिसमें बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण हो, या संक्रमण से प्रभावित किसी व्यक्ति ने उस चीज को छुआ हो। इसलिए अपने हाथों को नियमित रूप से साबुन से धोएं।

अपने चेहरे को बार-बार न छुएं-

अधिकांश बैक्टीरिया और वायरस मुंह, नाक और आंखों के माध्यम से हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं, इसलिए बारिश के मौसम में अपने मुंह को बार-बार न छुएं। बार-बार अपने सिर पर पसीना न पोंछें, या अपना चेहरा न रगड़ें, अपने साथ एक साफ रुमाल रखें और इसका इस्तेमाल करें।

उपचार तुरंत प्राप्त करें –

मानसून की बारिश में, चारों ओर वायरस बड़ी संख्या में होते हैं, जिसके कारण कोई भी बीमारी हो सकती है। जैसे ही आप किसी बीमारी की चपेट में आते हैं, तुरंत इलाज कराएं। उपचार कराने में देरी न करें।

निष्कर्ष :-

तो दोस्तों, चाहे गर्मी हो या बारिश का मौसम, उनका आना निश्चित है. लेकिन हमें इस मौसम में खुद को ढालने आना चाहिए। अगर हम अपना अच्छे से ख्याल रखेंगे तो, तो हम स्वस्थ रहेंगे और हम हर मौसम का आनंद ले पाएंगे। आप सभी को मानसून की ढेर सारी शुभकामनाएं।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करें।

Leave a Comment